हीट वेव

लू / गरम हवायें

प्रदेश के अधिकांश हिस्से मई एवं जून के माह मे लू से प्रभावित होता है। इन माहों मे औसत तापकर्म 40 डिग्री सेल्सियस से अधिक होता है । इस अति तापकर्म तथा गरम हवाओ के कारण बड़ी संख्या मे लोग बीमार होते है तथा उनके मृत्यु भी होती है। बिगत वर्षो मे अतिताप एवं लू प्रदेश मे एक महत्वपूर्ण एवं अतिसंवेंदंशील खतरे के रूप मे चिन्हित्त किया गया है। सामान्यजन को यह जानना आवश्यक है कि प्रदेश मे लू अथवा गर्म हवाएं एक गंभीर स्थिति है तथा यदि हम आवश्यक निरोधी उपाय नहीं अपनायेंगे तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं । अतः जन सामान्य को लू अथवा गर्म हवाओं के दौरान अपनाएं जाने वाली आवश्यक सावधानियां के बारे में उचित जानकारी का होना अत्यन्त आवश्यक है।

अंतिम बार अपडेट किया:08 Sep, 2020

नया क्या है
  • शीत-घात से बचाव के उपायnew-iconऔर पढ़ें
  • मध्यप्रदेश राज्य आपदा प्राधिकरण मे प्रतिनियुक्ति पर भर्ती हेतु विज्ञापनnew-iconऔर पढ़ें
  • बाढ़ आपदा प्रबंधन पूर्व तैयारी हेतु जिला प्राधिकरण को सुझावnew-iconऔर पढ़ें
  • लू सुरक्षा नियम का रखें ध्यानnew-iconऔर पढ़ें
  • लू (तापघात) से बचावnew-iconऔर पढ़ें

आपातकालीन संपर्क

Wheather-Photo